Important changes proposed in GST Council’s 31st Meeting

GST Council की 31st मिटींग आज 22/12/2018 को हुई जिसमें नीम्न प्रकार के GST में amendment करने का प्रस्ताव रखा गया है। इसके लिए जल्द ही notifications issue किए जायेंगे।

1. हर एक tax head के लिए single cash ledger ही रहेगा। इसके लिए GST Portal पर जरुरी सुधार किए जायेंगे।

2. Centre या State द्वारा sanction किया गया refund, Single Authority द्वारा disburse किया जाये ऐसी scheme जल्द ही बनायी जायेगी।

3. 1 April 2019 से New Return Filing System trial basis पर चालु किया जायेगा और 1 July 2019 से mandatory कर दिया जायेगा।

4. F.Y. 2017-18 के लिए GSTR-9 (Annual Return), GSTR-9A (Annual Return for Composition Tax Payers) और GSTR-9C (Reconciliation Statement/ Audit Report) की last date और बढाकर 30/06/2019 कर दी जायेगी।

5. Annual Return और Audit Report के Forms में नीम्न प्रकार के clarificatory changes किये जायेंगे।

i. GSTR-9 और GSTR-9A के heading में supply संबंधित शब्द “as declared in returns filed during the year” की जगह “made during the year” शब्द रखे जायेंगे। पहले GSTR-3B और GSTR-1 में दिखाये गए data ही Annual Return में दिखाने थे, पर अब इस amendment की वजह से Annual Return में actual data दिखाने रहेंगे ।

ii. GSTR-9 और GSTR-9C file करने से पहले सारे return Form GSTR-1 और GSTR-3B file होने चाहिये।

iii. GSTR-9A file करने से पहले सारे return Form GSTR-4 file होने चाहिये।

iv. HSN Code सिर्फ उसी input supply का देना है, जिसकी value independently सारी inward supplies की कुल value के 10% या उससे ज्यादा हो।

v. यदी कोई additional payment करना है, तो GST-DRC-03 से सिर्फ cash से ही हो सकता है।

vi. GSTR-9 और GSTR-9C से Input Tax Credit (ITC) claim नहीं कर सकते है।

vii. पिछले Financial Year से सम्बन्धित सारे invoices (फिर चाहे वह किसी भी month के GSTR-1 में report किये हो) वें GSTR-9 के Table-8A में auto-populate होंगे।

viii. “non-GST supply” की value में “no supply” की value भी include होगी और उसे GSTR-9 के Table 5D, 5E और 5F में report कर सकते है।

ix. Reconciliation Statement GSTR-9C में Taxpayer द्वारा verification जोडा जायेगा।

6. OCT, NOV और DEC 2018 month के लिए e-Commerce Operator द्वारा file किये जाने वाले GSTR-8 की last date बढाकर 31/01/2019 की जायेगी।

7. July 2017 से December 2018 तक file किये जाने वाले ITC-04 की last date बढाकर 31/03/2019 की जायेगी।

8. F.Y.2017-18 के दौरान Supplier द्वारा issue किये गए invoices की Input Tax Credit, वह inward supply लेने वाले कुछ शर्तो के आधार पर, March 2019 का GSTR-3B file करने की last date तक ले सकेंगे।

9. RFD-01A में refund application करते समय ही GST common portal पर सारे supporting documents/invoices upload करने की facility दी जायेगी। जिससे taxpayer को refund application submit करने के लिए department जाने की जरूरत नहीं रहेगी। इसके लिए GST Portal पर जरुरी सुधार किए जायेंगे।

10. नीचे दिये गये refund के सम्बन्धित application भी RFD-01A के माध्यम से हो पायेगी-

i. Assessment/ Provisional Assessment/ Appeal/ Other Order से सम्बन्धित refund

ii. राज्य के अन्दर (intra-State) supply पर चुकाया गया tax, यदि एसी supply बाद में राज्य के बाहर की ठहराई जाये या इससे विपरीत स्थिती बने

iii. Tax का excess payment, और

iv. अन्य refund

11. RFD-01A में की गई refund applications (Cash Ledger में excess balance सम्बन्धित refund application के अलावा) जो उपर point 10 में बताई गई functionality चालु होने से पहले GST portal पर generate हो चुकी है किन्तु जो ARN generate होने के 60 दिनो में department में submit नहीं हुई है, उस case में दावेदार को उसकी registered email id पर बताया जायेगा की refund application कहा submit करनी है। यदि दावेदार Email की तारीख से 15 दिन में refund application submit नहीं करता है, तो वह refund application reject कर दी जायेगी और वह amount दावेदार के Electronic Credit Ledger में re-credit कर दी जायेगी।

12. Migration process complete करने के लिए एक बार फिर मौका दिया जायेगा। जिन करदाताओ ने संपूर्ण REG-26 file नहीं किया है और जिनको 31/12/2017 तक सिर्फ Provisional ID ही मिला है, उनको Jurisdictional Nodal Officer को जरुरी detail furnish करने की last date बढाकर 31/01/2019 की जायेगी। इसके अलावा इन करदाताओ के लिए July 2017 से February 2019/ July 2017 से December 2018 तक के quarters के GSTR-3B और GSTR-1 file करने की last date बढ़ाकर 31/03/2019 की जायेगी।

13. सभी करदाताओ के case में July 2017 से September 2018 तक के Monthly/ Quarterly GSTR-1, GSTR-3B और GSTR-4 यदी 22/12/2018 के बाद file किये जाते है किन्तु 31/03/2019 से पहले file किये जाते है, तो Late Fee completely waive कर दी जायेगी।

14. जिन करदाताओ ने continuous दो tax period के return file नहीं किये है, वे e-way bill generate नहीं कर पायेंगे। यह प्रावधान GST Portal पर functionality चालु होने के बाद लागु किया जायेगा।

15. Refund सम्बन्धित issues जैसे कि inverted duty structure की वजह से refund, निश्चीत समय में refund का disbursal, invoices पर ITC लेने के लिए जरूरी समय, compensation cess की accumulated ITC का refund इ. पर clarification issue किया जायेगा।

16. CGST (Amendment) Act 2018, IGST (Amendment) Act 2018, UTGST (Amendment) Act 2018 और GST (Compensation to States) Amendment Act 2018 से किए गये changes और SGST Act के corresponding changes ता.01/02/2019 से notify किये जायेंगे।

17. दो या ज्यादा State Appellate Advance Ruling Authority के एक issue पर यदि अलग अलग निर्णय हो, तो ऐसे विवादीत issues पर अंतिम निर्णय के लिए Centralised Appellate Authority for Advance Ruling (AAAR) कि रचना की जाएगी।

18. Interest का calculation Input Tax Credit देने के बाद की net liability पर हो उसके लिए CGST कि Section 50 में amendment किया जायेगा। मतलब अब electronic cash ledger से payable tax पर हि interest calculate होगा।

Als0 Read- Other Decision in 31ST GST Council Meeting

Formation of GoM as Recommended by GST Council in 31st Meeting

In Principle Approval to Centralised AAAR & Interest on net tax liability in 31st GST Council Meeting

GST Council refers 4 important issues to various Committees / GoM

15 Recommendations made during 31st Meeting of GST Council

Author Bio

Qualification: CA in Practice
Company: SONI JHAWAR & cO
Location: SURAT, Gujarat, IN
Member Since: 22 Dec 2018 | Total Posts: 1

More Under Goods and Services Tax

2 Comments

  1. rashidaltamash.ali@gmail.com says:

    The reasons of this non compliance of not filing the return on time under gst is because of technical default and technical glitches in the gstn software of converting the assessee from regular to composition.

  2. rashidaltamash.ali@gmail.com says:

    I want to know those my clients who have been filed his return from September 2017 to November 18 in the month November 2018 along with late fee till the date, So whether late fee will be credited in the ledger or waives of late fee.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Search Posts by Date

January 2021
M T W T F S S
 123
45678910
11121314151617
18192021222324
25262728293031