Follow Us :

Introduction: Job work plays a crucial role in the manufacturing process, allowing goods to undergo various treatments or processes under the direction of a principal person. Understanding the terms and conditions of job work is essential for businesses to comply with GST regulations and optimize their operations.

Normaly  किसी goods को manufacture करने के लिए goods को कई process से होकर गुजरना होता है. यह जरुरी नहीं है कि सारी process manufacture के द्वारा ही की जाये. further processing के लिए goods को अन्य किसी person को आगे send किया जा सकता है, जहा job worker, principal person के direction पर process  करता है.

Normaly job work से तात्पर्य किसी goods पर treatment or process करने से है. Job work को start करने के पहले हमें कुछ basic terms को समझना होगा – जेसे

  • Job – work :Registered person के behalf पर अन्य कोई person चाहे वह GST Act के अन्दर registered है या नहीं , के द्वारा goods पर treatment और process किया जा रहा है, जैसे treatment or process like designing, rework, sting and its report, addition, modification
  • Job Worker :Person जो treatment or process कर रहा है, उसे jobworker बोलेगे.

i. Input – means capital goods के अतिरिक्त अन्य कोई goods जिसे business purpose के लिए use किया जा रहा है या business purpose के लिए use किया जाना है, इन्हें input बोला जाएगा.

ii. Capital Goods – Capital goods जिसका books of accounts में ITC claim किया गया है और जिसे business purpose के लिए use किया जा रहा है या business purpose के लिए use किया जाना है इन्हें capital goods बोला जायेगा.

iii. Input service :- कोई भी service जिन्हें business purpose के लिए उसे किया जा रहा है या use किया जाना है.

1. What document to be issued by principal person when goods send to job worker :-

Normally, जब principal person के द्वारा  goods को remove किया जाता है तब Rule 55 के अनुसार delivery challan issue किया जाएगा. delivery चालन तब issue किया जाता है जब goods को remove किया जा रहा हो sale के अतिरिक्त अन्य किसी कारण से. 

2. What about ITC : –

Principal person के द्वारा job worker को  input or capital goods send किया जा रहा है, स्वयं या उसके behalf पर अन्य किसी person के द्वारा तब ऐसे input or capital goods पर paid किये गए GST का ITC principal person को allowed होगा. लेकिन input को with in 1 year or capital goods को with  in 3 year वापस principal person को send किया जाना होगा.

लेकिन moulds, dies, jigs, & fixture and tools को वापस send किये जाने की आवश्यकता नहीं है.

यदि prescribed time के अन्दर input और capital goods को वापस send नहीं किया गया है तो ITC को with interest reverse किया जाना होगा.

यहाँ पर interest charge किया जाएगा- जिस date को books of account में ITC claim किया गया था से लेकर जिस date को goods वापस principal person को send किया जा रहा है तक के period का.

लेकिन Goods को वापस  send करने के बाद reverse की गई ITC को claim किया जा सकता है. लेकिन paid किये गए intrest का ITC नहीं मिलेगा.

3. Goods send by job worker to another job worker –

Job worker द्वारा processing करने के बाद goods को further processing के लिए किसी दुसरे Job worker को आगे send किया जा सकता है लेकिन principal person के द्वारा issue किया गया delivery challan साथ में indorse किया जाएगा.

4. After Complete the Process How to Remove Goods –

Process complete होने के बाद goods को वापस principal person को send किया जाएगा. लेकिन यदि job worker registered है तब tax का payment करने के बाद goods  को direct  job worker के place से  customer  को  send किया जा सकता है.

5. Additional Place of Business :- यदि job worker registered नहीं है, तब Job worker को additional place of business के रूप में दिखाना होगा उसके बाद ही goods को job worker कि premises से remove किया जा सकता है.

6. Registration of Job Worker – Job worker को GST Act के अन्दर registration लेना होगा यदि job worker का turnover under section 22 के अनुसार registration लेने की prescribed limit से ज्यादा हो गई है. Job worker के turnover में सिर्फ उसके द्वारा जो service provide की गई है उसे ही जोड़ा जाएगा.

Principal person के behalf पर जो goods remove किये गए है उसे principal person के turnover में include किया जाएगा.

7. Responsibility of Books of Accounts :- Principal person के द्वारा जो goods send किये गए है,  job worker को उसके  respect में books of account maintain करने की responsibility principal person की होगी.

Waste and Scrap :- Job work के दौरान यदि waste or scrap generate होता है, तब job worker यदि  GST Act के अन्दर registered है तब tax का payment करके waste and scrap को अपने business place से remove किया जा सकता है. 

Conclusion: Job work under GST involves the treatment or processing of goods by a job worker on behalf of a principal person. From issuing delivery challans to managing input tax credits and maintaining books of accounts, both principal persons and job workers have specific responsibilities. By adhering to GST guidelines and understanding the intricacies of job work, businesses can streamline their operations and ensure compliance with tax regulations.

Author Bio

CA Vikram Tongya, a seasoned Chartered Accountant since 2009, is a distinguished professional in the field of finance and taxation. Currently serving as a partner at STAK & Associates, a reputable firm known for its expertise in financial services, Vikram brings a wealth of experience and insigh View Full Profile

My Published Posts

Understanding Job Work in GST: Compliance, ITC and Processes GST on Bricks Manufacture GST on Joint Development Agreement: Key Tax Implications GST Implications for Transactions between a Director and Company GST Registration Benefits: व्यापक विश्लेषण और उपयोगिता View More Published Posts

Join Taxguru’s Network for Latest updates on Income Tax, GST, Company Law, Corporate Laws and other related subjects.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Search Post by Date
April 2024
M T W T F S S
1234567
891011121314
15161718192021
22232425262728
2930