How to Deal with Notices Regarding Mismatch in Form GSTR-2A and GSTR-3B from FY 2017-18 to FY 2018-19

Introduction: The implementation of the Goods and Services Tax (GST) during the initial period of 2017-18 and 2018-19 brought forth challenges in reconciling Form GSTR-2A and GSTR-3B. This article delves into Section 16 of the CGST Act 2017, exploring scenarios, clarifications, and practical approaches to address discrepancies.

CGST Act 2017 का Section-16, जो की ITC (Input Tax Credit) को avail करने की eligibility और conditions provide करता है, GST implementation के initial period (i.e. 2017-18 and 2018-19) के दौरान बहुत से cases में यह पाया गया की supplier के द्वारा outward supply की correct details, GSTR-1 में furnished नहीं की गई, जिसके कारण recipient के form GSTR 2A में deficiencies or discrepancies पायी गई.

लेकिन recipients के द्वारा ऐसी supply के respect में form GSTR – 3B  में ITC ( input tax credit ) को avail किया गया .

Tax officer को Scrutiny / Audit / Investigation के दोरान यह पाया गया की recipient के द्वारा GSTR 3B में ITC claim किया गया है, लेकिन यह उसके GSTR – 2A  में reflect  नहीं हो रहा है .

Board के द्वारा uniformity लाने के लिए, Circular No. 183/15/2022 -Dated :- 27/12/2022 के through, इस respect में clarification issue किया गया.

GSTR 2A/GSTR 3B Mismatch

Clarification on deal with difference in Input Tax credit ( ITC ) availed in Form GSTR – 3B as compared to that detailed in Form – GSTR 2A for F.Y. 2017-18 and 2018-19.

S. No. Scenario Clarification
a. जहा supplier के द्वारा  relevant tax period का GSTR – 1 form submit नहीं किया गया है लेकिन उस tax period का GSTR – 3B form filed किया गया है .

जिसके कारण relevant tax period की supply,  recipient के  GSTR  2A में reflect नहीं हो रही है.

Refer Note-1
b. जहा supplier के द्वारा  relevant tax period का GSTR – 1 form & GSTR – 3B  form    filed किया गया है लेकिन किसी particular supply को GSTR -1 form में submit नहीं किया गया है जिसके कारण  recipient के GSTR 2A form में such supply reflect नहीं हो रही है.  Refer Note-1
c. जहा registered person को  supply की गई है and Rule 46 के अनुसार invoice, issue किया गया है जिसमे recipient का GSTIN no भी mention किया गया है लेकिन supplier के द्वारा ऐसी supply को B2B supply की जगह B2C supply treat किया गया है .

जिसके कारण ऐसी supply registered person के GSTR -2A में reflect नहीं हो रही है.

 Refer Note-1
d. जहा supplier के द्वारा tax period का ,  GSTR – 1 form filed किया गया है साथ ही GSTR – 3B भी filed किया गया है लेकिन GSTR – 1 में  ऐसी supply के respect में wrong GSTIN no declare किया गया है.

Refer Note-1

In addition, actual recipient के proper officer के द्वारा, registered person जिसका गलती से, GSTIN no mention किया गया हे उसके jurisdictional officer को inform किया जाएगा कि recipient के द्वारा जिन्होंने  गलती से अपने GSTR-3B में ITC claim किया गया है ऐसे ITC को  disallowed किया जाये .

लेकिन actual recipient को ITC claim करने की अनुमति , registered person जिसने गलती से ITC claim किया है ऐसे registered person की authority द्वारा की जाने वाली कारवाही पर depend नहीं करेगी and such action will be pursued as an independent action

Note –1

Case-1 :

जहा  किसी financial year में registered person के द्वारा GSTR – 3B में claim  की गई ITC  and GSTR 2A में available ITC के बीच में Rs. 5 lakhs  से ज्यादा का difference है तब proper officer के द्वारा registered person को यह कहा जाएगा कि CA या CMA के द्वारा ऐसी supply के respect में certificate produce करे की,  supplier के द्वारा जो invoice issue किये गए है, उनके respect में actual में supplier के द्वारा registered person को supply की गई है साथ ही GSTR 3B  return में ऐसी supply के respect में tax का payment कर दिया गया है

CA or CMA के द्वारा issue किये गए certificate में UDIN no mention होना चाहिए. साथ ही UDIN जिसे issued किया गया है CA या CMA के द्वारा इसे verified किया गया हो ICAI or CMA की website पर .

Case-2

जहा  किसी financial year में registered person के द्वारा GSTR – 3B में claim  की गई ITC   and GSTR 2A में available ITC के बीच में Rs. 5 lakhs तक का difference है तब Proper officer के द्वारा,  person जो ITC claim कर रहा है उसे कहेगे की ऐसी supply के respect में concern supplier से certificate produce करे की, supplier के द्वारा actual में registered person को supply किया गया है और ऐसी supply के respect में supplier के द्वारा tax का payment GSTR – 3B form में कर दिया है.

लेकिन यहाँ यह  ध्यान दिया जाना होगा की FY 2017-18 period के लिए,

CGST act का section 16 (4) के अनुसार, जो की बात करता है maximum time period तो claim ITC की. section 16 ( 4 ) का benefit नहीं मिलेगा यदि GSTR – 3B return filed किया गया है after the due date of furnishing return for the month of September, 2018 till the date of furnishing return for March 2019.यदि supplier के द्वारा ऐसी supply की details  GSTR – 1 form में furnished नहीं की गई है, till the due date of furnishing of GSTR -1 for the month of March 2019.

साथ ही यह भी ध्यान दिया जाना होगा की इस circular के अन्दर दिए गए  specified  cases, FY  2017-18 and 2018-19 के दोरान  की गई रिपोर्टिंग में bonafide error पर लागू होगे.

यह instruction केवल FY 2017-18 and 2018-19  के लिए चल रही scrutiny/audit/ investigation, के लिए applicable होगे. However यह instruction FY 2017-18 and 2018-19 के उन case पर भी applicable होगी, जहा adjudication or appeal proceeding, still pending है.

Above circular के basis पर, जिस situation में fall हो रहे है, उसके basis पर Notice को reply दिया जा सकता है.

Conclusion: While dealing with GSTR-2A and GSTR-3B mismatches, adherence to Circular No. 183/15/2022 is crucial. Specific instructions for FY 2017-18 and 2018-19 emphasize the application of scrutiny, audit, or investigation only during these periods. The circular provides clarity on bonafide errors and their applicability in pending adjudication or appeal proceedings. Businesses can respond to notices based on the outlined situations, ensuring compliance and resolving discrepancies effectively.

Author Bio

Qualification: CA in Practice
Company: STAK & ASSOCIATES
Location: INDORE, Madhya Pradesh, IN
Member Since: 10 Apr 2020 | Total Posts: 10
CA Vikram Tongya, a seasoned Chartered Accountant since 2009, is a distinguished professional in the field of finance and taxation. Currently serving as a partner at STAK & Associates, a reputable firm known for its expertise in financial services, Vikram brings a wealth of experience and insigh View Full Profile

My Published Posts

Join Taxguru’s Network for Latest updates on Income Tax, GST, Company Law, Corporate Laws and other related subjects.

Join us on Whatsapp

taxguru on whatsapp GROUP LINK

Join us on Telegram

taxguru on telegram GROUP LINK

Download our App

  

More Under Goods and Services Tax

2 Comments

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Search Posts by Date

February 2024
M T W T F S S
 1234
567891011
12131415161718
19202122232425
26272829