CA Sudhir Halakhandi

आई. जी.एस.टी. किस तरह कार्य करेगा – एक सरल उदाहरण

आई.जी.एस.टी. बिक्री के लिए ट्रांजेक्शन

प्रथम विक्रेता x मुंबई – 10 लाख रूपये मुंबई के ही y को.

द्वितीय विक्रेता – Y मुंबई 10.50 लाख रूपये राजस्थान के Z को.

तृतीय विक्रेता – Z राजस्थान 11 लाख रूपये राजस्थान में ही उपभोक्ता को.

  1. पहला ट्रांजेक्शन राज्य के भीतर है.
  2. दूसरा ट्रांजेक्शन अन्तर प्रान्तीय है (IGST)
  3. तीसरा ट्रांजेक्शन राज्य के भीतर है.

कल्पना कीजिये जी.एस..टी. की दर 18 % है जिसमे से 9% प्रतिशत सी.जी.एस.टी. है और 9% एस.जी.एस.टी. है.

इस तरह से आई.जी.एस.टी. की दर 18% होगी जो कि एस.जी.एस.टी. और सी.जी.एस.टी. को जोड कर होती है.

कर की दरें उदहारण के लिए

S.NO. DESCRIPTION RATE OF TAX
1. एस.जी.एस.टी. 9%
2. सी.जी.एस.टी. 9%
3. आई.जी.एस.टी. (1+2)= 18%

विभिन्न डीलर्स का कर दायित्व

क्र.स. विवरण S.G.S.T.

(9%)

CGST

(9%)

IGST

Online GST Certification Course by TaxGuru & MSME- Click here to Join

(18%)

रिमार्क
1. प्रथम विक्रेता x मुंबई – 10 लाख रूपये मुंबई Y 90000.00 90000.00 NA पहला ट्रांजेक्शन राज्य के भीतर है.

 

Less:-इनपुट NIL NIL NA
X का कर जमा 90000.00 90000.00 NA
2. द्वितीय विक्रेता – Y मुंबई 10.50 लाख रूपये राजस्थान के Z को. NA NA 189000.00 दूसरा ट्रांजेक्शन अन्तर प्रान्तीय है (IGST)
Less:- इनपुट NA NA 180000.00

(SGST 90000.00 + CGST 90000.00)

IGST मे अपने खरीदे गये माल पर चुकाये हुये SGST एवम CGST का इनपुट मिल जाता है.
Y का कर जमा NA NA 9000.00
3. Z राजस्थान 11 लाख रूपये राजस्थान में ही उपभोकता को 99000.00 99000.000 NA तीसरा ट्रांजेक्शन राज्य के भीतर है.
Less:- इनपुट 90000.00 99000.00 NA Z की IGST इनपुट 1.89 लाख है उसे IGST,CGST और इसके बाद बची रकम को SGST के साथ इसी क्रम में इनपुट लेना है.
Z का जमा कर 9000.00 NIL NA

ये तो एक उदहारण हुआ कि किस तरह से एक राज्य से दूसरे राज्य को होने वाले व्यवहार पर आई.जी.एस.टी. डीलर्स पर किस तरह से लगेगा.

आइये जब हम इसका अध्ययन कर ही रहें है तो यह भी देख ले कि यह कर प्रणाली अर्थात आई.जी.एस.टी. किस तरह राज्यों के और केंद्र के राजस्व को प्रभावित् करेगी :-

राज्य और केन्द्र के मध्य रकम का ट्रान्सफर

क्र.स. विवरण रकम
1. विक्रेता राज्य उस रकम को केंद्र को ट्रान्सफर करेगा जो की उसके डीलर ने आई.जी.एस.टी..का भुगतान करते समय एस.जी.एस.टी. की क्रेडिट ली है. यहाँ Y ने अपना आई.जी.एस.टी. चुकाते समय 90000.00 का एस.जी.एस.टी. का क्रेडिट लिया है जो की विक्रेता राज्य के खजाने में चला गया है जो कि जी.एस.टी.कानून के तहत उसका राजस्व नहीं है. 90000.00
2. केंद्र क्रेता राज्य को उस रकम का ट्रान्सफर देगा जो कि क्रेता राज्य के डीलर ने अपना एस.जी.एस.टी. चुकाते समय अपने द्वारा भुगतान किये गए आई.जी.एस.टी. का क्रेडिट लिया है और इस तरह् से क्रेता राज्य का राजस्व केंद्र के खजाने में चला गया था लेकिन यह रकम क्रेता राज्य का राजस्व का हिस्सा है. 90000.00

IGST का केंद्र , विक्रेता राज्य और क्रेता राज्य के राजस्व पर प्रभाव

क्र.स. IGST के प्रभावी पक्ष
1. विक्रेता राज्य
2. क्रेता राज्य
3. केद्र सरकार

विक्रेता राज्य

क्र.स. विवरण कर –SGST रिमार्क
1. कर की रकम जो कि प्रथम विकर्ता X ने जमा कराई. 90000.00 CGST एवंम IGST राज्यों का विषय नहीं है अत: यहाँ नहीं लिया गया है.
 

 

2.

Less: – विक्रेता राज्य उस रकम को केंद्र को ट्रान्सफर करेगा जो कि उसके डीलर ने आई.जी.एस.टी..का भुगतान करते समय एस.जी.एस.टी. की क्रेडिट ली है. यहाँ Y ने अपना आई.जी.एस.टी. चुकाते समय 90000.00 का एस.जी.एस.टी. का क्रेडिट लिया है जो की विक्रेता राज्य के खजाने में चला गया है. 90000.00 NA
3. विक्रेता राज्य का राजस्व NIL NA

Note- जी.एस.टी. एक उपभोक्ता राज्य को मिलने वाला कर है अत; यदि जिस राज्य में माल बिका है उस राज्य में इसका उपभोग नहीं होता है तो विक्रेता राज्य को कोई कर नहीं मिलेगा.

क्रेता राज्य – उपभोक्ता राज्य

क्र.स. विवरण SGST र्रिमार्क
1. क्रेता राज्य के डीलर द्वारा जमा कराया गया SGST. 9000.00 CGST और IGST राज्यों का विषय नहीं है अत: यहाँ शामिल नहीं है.
Add- केंद्र क्रेता राज्य को उस रकम का ट्रान्सफर देगा जो कि क्रेता राज्य के डीलर ने अपना एस.जी.एस.टी. चुकाते समय अपने द्वारा भुगतान किये गए आई.जी.एस.टी. का क्रेडिट लिया है और इस तरह् से क्रेता राज्य का राजस्व केंद्र के खजाने में चला गया था. 90000.00 NA
क्रेता राज्य का राजस्व 99000.00 NA

Note: – क्रेता राज्य के उपभोक्ता की खरीद की कीमत 11.00 Lakhs @ 9% है इस तरह से इस राज्य का राजस्व Rs.99000.00 हुआ जो कि ऊपर लिखी गणना के अनुसार भी आ रहा है.

केंद्र सरकार

क्र.स. विवरण CGST IGST कुल रकम
1. CGST की रकम जो कि विक्रेता राज्य के उस डीलर ने जमा कराई जिसने इस उदहारण के प्रथम डीलर को माल बेचा था. 90000.00 NIL 90000.00
2. IGST जो की इस उदहारण के विक्रेता राज्य के डीलर Y ने जमा कराया था. NIL 9000.00 9000.00
कुल रकम 90000.00 9000.00 99000.00
3. Add:- विक्रेता राज्य उस रकम को केंद्र को ट्रान्सफर करेगा जो कि उसके डीलर ने आई.जी.एस.टी..का भुगतान करते समय एस.जी.एस.टी. की क्रेडिट ली है. यहाँ Y ने अपना आई.जी.एस.टी. चुकाते समय 90000.00 का एस.जी.एस.टी. का क्रेडिट लिया है जो की विक्रेता राज्य के खजाने में चला गया है. NA NA 90000.00
Total NA NA 189000.00
Less – केंद्र क्रेता राज्य को उस रकम का ट्रान्सफर देगा जो कि क्रेता राज्य के डीलर ने अपना एस.जी.एस.टी. चुकाते समय अपने द्वारा भुगतान किये गए आई.जी.एस.टी. का क्रेडिट लिया है और इस तरह् से क्रेता राज्य का राजस्व केंद्र के खजाने में चला गया था. NA NA 90000.00
Result-केंद्र सरकार का राजस्व NA NA 99000.00

Note: – क्रेता राज्य के उपभोक्ता की खरीद की कीमत 11.00 Lakhs @9% है इस तरह से इस तरह से केंद्र का राजस्व Rs.99000.00 हुआ जो कि ऊपर लिखी गणना के अनुसार भी आ रहा है.

इस तरह से आई.जी.एस.टी. का यह चक्र पूरा होता है.

-CA Sudhir Halakhandi

“Halakhandi”, Laxmi Market, Beawar-305901(Raj)

Cell- 9828067256, MAIL –sudhirhalakhandi@gmail.com

More Under Goods and Services Tax

Posted Under

Category : Goods and Services Tax (4841)
Type : Articles (14567)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *